महाशिवरात्रि विशेष: शिवजी को यह 5 सामग्री अवश्य चढ़ाएं!

महाशिवरात्रि के शुभ दिन पर धूमधाम से महाकाल की आराधना की जाती हैं लेकिन कुछ जरूरी सामग्री चढ़ाने मात्र से ही भगवान शिव अत्यंत प्रसन्न हो जाते हैं. महाशिवरात्रि के शुभ अवसर पर यह 6 सामग्री अवश्य चढ़ाए!!!

  • जलाभिषेक: पांच तत्व में जल तत्व बहुत महत्वपूर्ण है। सावन मास में जलाभिषेक, रुद्राभिषेक का बड़ा महत्व है। वेद मंत्रों के साथ भगवान शंकर को जलधारा अर्पित करना साधक के आध्यात्मिक जीवन के लिए महाऔषधि के सामान है। पुराणों ने शिव के अभिषेक को बहुत पवित्र महत्व बताया गया है। जो भक्त, श्रद्धालु भगवान शिव को जल चढ़ाते हैं उनके रोग-शोक, दुःख दरिद्र सभी नष्ट हो जाते हैं।

 

इस महाशिवरात्रि करें अपने हर कष्टों को दूर, करवाएं गौरी-शंकर पूजा: CLICK HERE

 

बेलपत्र और समीपत्र: एक बार जब ऋषियों ने महादेव को प्रसन्न करने का तरीका ब्रह्मदेव से पुछा तो उन्होंने बताया कि महादेव सौ कमल चढ़ाने से जितने प्रसन्न होते हैं, उतना ही एक नीलकमल चढ़ाने पर होते हैं। और एक हजार नीलकमल के बराबर एक बेलपत्र होता है और एक हज़ार बेलपत्र को एक समीपत्र का महत्व होता है। इसीलिए भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए बेलपत्र और समीपत्र चढ़ाया चाहिए।

 

महाशिवरात्रि में रुद्राभिषेक का बहुत ही महत्त्व हैं रुद्राभिषेक से ना सिर्फ महादेव का आशीर्वाद मिलता हैं परन्तु , हर कष्ट दूर होता हैं इस महाशिवरात्रि  करें महा रुद्राभिषेक पूजा : CLICK HERE

 

  • ढूध से अभिषेक: दूध को चंद्र ग्रह से संबंधित माना गया है क्योंकि दोनों की प्रकृति शीतलता प्रदान करने वाली है। इसीलिए सावन में हर सोमवार महादेव पर दूध अर्पित करना चाहिए।

 

  • गंगा जल: गंगा भगवान विष्णु के चरणों से निकली और भगवान शिव की जटा से धरती पर उतरी हैं इसीलिए सभी नदियों में से गंगा पवित्र नदी हैं. गंगा जल से भगवान शिव का अभिषेक करने से मानसिक शांति और सुख की प्राप्ति होती हैं.

 

महाशिवरात्रि विशेष:

शिव के हर नाम में हैं अद्भुत शक्ति और प्रभाव!!! सिर्फ नाम लेने से ही मिलता है हर समस्या का समाधान, जानिए कैसे?

CLICK HERE

  

  • गन्ने का रस - गन्ना जीवन में म‌िठास और सुख का प्रतीक माना जाता है। शास्‍त्रों से इसे बहुत ही पव‌ित्र माना गया है। प्रेम के देवता कामदेव का धनुष गन्ने से बना है। देवप्रबोधनी एकादशी के द‌िन गन्ने का घर बनाकर भगवान व‌िष्‍णु की देवी तुलसी की पूजा की जाती है। गन्ने के रस से श‌िवल‌िंग का अभ‌िषेक करने से धन-धान्य की प्राप्त‌ि होती है।

 


1 comment

  • Om namahshivay

    Vinod chandulal Nagrecha

Add Comments

Please note, comments must be approved before they are published