वैकुण्ठ एकादशी: जिसके व्रत से मिलती है मोक्ष की प्राप्ति..! जानिए रोचक बातें..!

वैकुण्ठ एकादशी, भारत की प्रमुख एकादशियों में से एक मानी जाती हैं. वैकुण्ठ एकादशी को मुक्कोटी एकादशी के नाम से भी जाना जाता है। इस एकादशी के सम्बन्ध में एक बहुत ही सुन्दर आध्यात्मिक महत्त्व सम्बंधित हैं. कहते हैं, इस दिन भगवान विष्णु की पूजा करने से परम मोक्ष की प्राप्ति होती हैं वैकुण्ठ एकादशी को मुक्कोटी एकादशी के नाम से भी जाना जाता है। एसी मान्यता है कि इस दिन भगवान विष्णु का निवास स्थान यानि की "वैकुण्ठ" का द्वार खुला होता है। इस दिन एकादशी का व्रत करने से स्वर्ग की प्राप्ति होती है। इस दिन विष्णु जी के सभी मंदिरों में बहुत ही धूम धाम के साथ यह एकादशी मनाई जाती हैं।

देखिए वैकुण्ठ एकादशी का इस्कॉन मंदिर, बैंगलोर से सीधा प्रसारण: CLICK HERE

आइये जानते हैं कि क्यों यह एकादशी इतनी महत्वपूर्ण हैं और क्यों इसे वैकुण्ठ एकादशी के नाम से जाना जाता है।

वैकुण्ठ एकादशी के बारे में जाने कुछ रोचक तथ्य:

  • इस दिन उपवास रखने से मनुष्य की आत्मा विष्णु जी के चरणों में शांति प्राप्त करती है जिससे उसे जन्म और मृत्यु के चक्र से मुक्ति मिल जाती है।

  • “वैकुण्ड” भगवान विष्णु और देवी लक्ष्मी का निवास स्थान है। वैकुण्ड का अर्थ है जहाँ किसी चीज़ की कमी नहीं है। जहाँ अहंकार समाप्त हो जाता है और आप पूरी तरह अपने आपको विष्णु जी को समर्पित कर देते हैं। जब आप वैकुण्ड एकादशी का उपवास रखते हैं तो आप मोक्ष प्राप्त कर लेते हैं।

  • इस दिन जो भी मनुष्य भगवतगीता का पाठ करता है और और अपना ज्ञान दूसरों के साथ बांटता हैं उसके लिए वैकुण्ड के दुवार खुल जाते हैं।

 

हाउस ऑफ़ गॉड एप डाउनलोड करें और वैकुण्ठ एकादशी के पावन अवसर पर सुनें: 


Add Comments

Please note, comments must be approved before they are published