Astrology Blog

How to select a Gem Stone

How to select a Gem Stone

The pratikool-anukool theory making rounds and giving certificates to each and all on payment of some money does not hold ground, as you will read ...
The influence of Mars on Human Life

The influence of Mars on Human Life

Mars is agni soochak. It is also addressed as the Bhoomi Putra. A benefic Mars can make the native courageous and a Purushaarthi while a Malefic on...
The Difference between Purushartha (Action) and Prarabdha(Destiny)

The Difference between Purushartha (Action) and Prarabdha(Destiny)

People ask that when everything is pre-destined as per Astrology then why must we Act or do Karma? Let us learn the difference between Destiny (Pra...
Ancestral curses native

Ancestral curses native

Pitra Dosha is a Topic which many modernized well-educated astrologers most of them actually less Educated, look at with disdain and contempt. They...
PROFESSION AND FINANCE

PROFESSION AND FINANCE

Guest Post By Mr. Krishna Kumar Bagri   Profession and Finances - Which Houses to check in a Horoscope? The Sun is the main Governor for Profess...
बैद्यनाथ धाम ज्योतिर्लिंग :

बैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग मंदिर को ही बाबा बैद्यनाथ धाम भी कहा जाता है।इस जगह को शिव के सबसे पवित्र निवास स्थान और 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक माना जाता है। यह भारत के झारखंड राज्य के देवघर में स्थित है। इस मंदिर परिसर है बाबा बैद्यनाथ का ज्योतिर्लिंग स्थापित है।मंदिर परिसर में बैद्यनाथ धाम ज्योतिर्लिंग के अलावा 21 अन्य मंदिर भी हैं।

पूजा का महत्त्व:

भगवान शिव के पूजा में बेलपत्र चढ़ाना सर्वश्रेठ और शुभ माना गया है। तीन पत्तियों का संगम, शिव की तीन आंखों के अलावा उनके त्रिशूल का भी प्रतीक है, जो पिछले तीन जन्मों के पापों को नष्ट करने के वाला माना जाता है। हालाँकि, वृक्ष के बेलपत्र तोड़ने का भी एक समय होता हैं। कहा जाता हैं कि महादेव सौ कमल चढ़ाने से जितने प्रसन्न होते हैं, उतना ही एक नीलकमल चढ़ाने पर होते हैं और एक हजार नीलकमल के बराबर एक बेलपत्र होता है। इसीलिए भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए बेलपत्र चढ़ाना चाहिए।

पूजा कैसे होगी?

हमारे द्वारा नियुक्त पुजारी बैद्यनाथ धाम मंदिर में बेलपत्र द्वारा स्थापित विधी से पूजा सम्पन्न करते है।

पूजा सामग्री:

बेलपत्र, जल, फूल।

पूजा अवधि:

नित्य, 10 मिनट

पूजा करने वाले पंडितों की संख्या:
  • पंडित मोती राम मिश्रा 35 वर्षों के अनुभव के साथ।

  • पंडित ललन मिश्रा 10 वर्षों के अनुभव के साथ।

डिसक्लेमर : हम किसी भी मंदिर के एजेंट, सहयोगी या प्रतिनिधि नहीं हैं। हम पूरे देश में फैले पंडितों के अपने नेटवर्क के माध्यम से सेवाएं प्रदान करवाते हैं

इस पूजा को बुकिंग के 7 दिनों के अंदर शुरु करवाया जाएगा।

About the Temple :

Baidyanath Jyotirlinga temple, also known as Baba Baidyanath dham and Baidyanath dham is one of the twelve Jyotirlingas, the most sacred abodes of Shiva. It is located in Deoghar in the Santhal Parganas division of the state of Jharkhand, India. It is a temple complex consisting of the main temple of Baba Baidyanath, where the Jyotirlinga is installed, and 21 other temples.

About the Puja:

Offering Bilva or belpatra in Shiva Puja is important and considered auspicious. A confluence of three leaves, "Bilva" is symbolic of Shiva's three eyes as well as his trident (trishul) which is believed to destroy sins of the past three births. However, there are certain days when one should not pluck the bel leaves from a tree.

How Puja is done ?

The purohits and pandits will perform the puja with proper rituals and right procedure inside Baba Baidyanath Dham Temple.

Puja Samagri:

Belpatra, Jal, Flowers.

Puja Duration:

10 mins, Everday

Number of Pandits performing Puja:
  • Pandit Moti Ram Mishra with 35 years of experience.

  • Pandit Lallan Mishra with 10 years of experience.

Disclaimer : We are not an agent, associate or representative of any temple. We perform services through our own network of Pandits spread throughout the country

Please note it can take up to 7 days to schedule the puja.